म्हारों राजस्थान 🇨🇮

धरती धोरां री, आ तो सुरगां ने सरमावे,

ईपर देव रमण ने आवे, धरती धोरां री।

कन्हैया लाल सेठिया की ये पंक्तियाँ राजस्थान की

धरती का एक जीवन्त और सुन्दर चित्रण प्रस्तुत

करती है। ऐसी धरती जिसकी सुन्दरता, विविधता,

विशालता, देखकर स्वर्ग भी शरमा जाये तथा इसको

देखने देवतागण भी आये ऐसे सौन्दर्य का धारक

राजस्थान, जहाँ एक ओर थार का मरूस्थल,, उडते

धूल के गुबार और उन गुबारों के बीच इठलाता ऊंट

रेगिस्तान का जहाँ है। वहीं दूसरी ओर पूर्व का भाग,

सरसो से लहराते खेत, और दूध-दही के भंडार

विविधता भरे इस राजस्थान का बखान करते हैं।

रणबांकुरों की भूमि ये राजस्थान पग-पग अपनी

वीरता की गाथा गाता है। यही वो भूमि है जिसनें राणा

प्रताप जैसे वीर सपूत पैदा किये। कर्नल जेम्स टॉड ने

तो यहाँ तक कह दिया थकि कि- “राजस्थान में कोई छोटा सा राज्य भी ऐसा नहीं है, जहाँ थर्मोपल्ली जैसी कोई रणभूमि न हो और शायद ऐसा कोई नगर ना मिले जहाँ लियोनिडैस जैसा वीर पुरुष पैदा न हुआ हो।”

राजस्थान सिर्फ रणभूमि ही नहीं रहा बल्कि ये अपनी

निराली संस्कृति के लिए भी खूब मशहूर हैं। राजस्थान

का नाम आते ही हमारी आखों के सामने घूमर और

कालबेलिया नृत्य और ऊंट की सवारी आ जाती है।

शायद ही ऐसा कोई महीना होगा जब यहाँ कोई

धार्मिक उत्सव न हो।

राजस्थान का पुष्कर पशु मेला विश्व प्रसिद्ध है।

राजस्थान का इतिहास और इससे जुडी़ स्थलाकृति

इसे और भी सुन्दर बनाते हैं।

*केसरिया बालम आओ नि पधारों म्हारे देश। **

***********************************

71 Comments

  1. बहुत अच्छा लगा दिल को छू गया काश के में भी उस दौर में पैदा हुआ होता

    Liked by 4 people

    1. 😊😊😊क्यों आप अभी पैदा होकर खुश नहीं हो क्या❓
      Thank you so much for lively read and sharing your feelings. 😍.

      Like

  2. Kesariyaaaaaaaaa Balmaaaaaa
    पधारो म्हारो देश जी, पधारो म्हारो देश

    भारत के इतिहास की गाथा राजस्थान के बिना हमेशा अधूरी रहेगी

    जय हिन्द, जयतु मातृभूमि

    Liked by 3 people

    1. सही फरमाया आपने, बिन राजस्थान भारत अधूरा सा है। सही मायनों में कहा जाये तो भारत के प्रत्येक राज्य का अपनी इक अलग पहचान है। और राजस्थान भी इन्हीं में से एक है।

      Liked by 2 people

  3. आप शब्दों का श्रिंगार अच्छा करती है । 22 रियासतों से बने राजस्थान में आज आपके लेख ने झालर लगा दी है । एक नई यूनियन ट्रेरटरी बनी है लद्दाख । उम्मीद करता हू कि आप उसके बारे में भी कुछ लिखे । घुमक्ड़ी जिज्ञासा में जब जेब खाली हो, तो आपके शब्दों का टिकट लेकर देशाटन करना और किसी अज्ञात को याद करना अच्छा लगता है।

    Liked by 3 people

    1. जी बहुत बहुत धन्यवाद आपका हमारे लेख को इतना पसंद करने के लिए, अगर मौका मिला तो जरूर लिखेंगे धरती के स्वर्ग कश्मीर और लद्दाख के विषय में। आपके सुन्दर शब्दों के लिए आपको एक बार फिर से धन्यवाद🙏💕 ☺☺☺

      Like

  4. बहुत सुंदर लिखा है और बड़ी ईमानदारी से लिखा है । राजस्थान से मुझे प्यार है , पढ़ कर बहुत अच्छा लगा ।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s